Breaking News

टिहरी झील पर रैबार 2 में हुआ विचारों का मंथन। आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया संबोधित। देश और विदेश से आई हस्तियों ने उत्तराखंड के विकास के लिए रखे सुझाव।

लंबे समय तक सुनाई देगी टिहरी से गए रैबार की गूंज

Dec 25, 2019

डॉ. धन सिंह रावत

जब उत्तराखंड राज्य बना, तब रैबार जैसे कार्यक्रम नहीं होते थे लेकिन जबसे त्रिवेंद्र सिह रावत ने राज्य की कमान संभाली है, यह कार्यक्रम दूसरी बार किया गया है। हमारे मुख्यमंत्री जब भी कही जाते हैं उत्तराखंड की बात करते हैं। अपने लोगों को उत्तरखंड आने के लिए आमंत्रित करते हैं। आज जो टिहरी झील में जो कार्यक्रम हुआ है यह लंबे समय तक लोगों को याद रहेगा। इसकी गूंज लंबे समय तक सुनाई देगी। 

हमारे देश में अन्य देशों के नेता आते है तो वह आगरा या अन्य जगहों में जाते हैं और वहां पर समझौते करते हैं। अभी हमारे प्रधानमंत्री जी ने साउथ में एक बहुत बड़ा कार्यक्रम कराया था लेकिन टिहरी झील के किनारे जो यह ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ है उसके लिए मैं अपने मुख्यमंत्री जी का आभार व्यक्त करना चाहता हूं। हिल-मेल फाउंडेशन,  मनजीत नेगी और आयोजन समिति के अध्यक्ष को भी मैं धन्यवाद देना चाहता हूं। निम के प्रिंसिपल कर्नल अमित बिष्ट और जिला प्रशासन को धन्यवाद देना चाहता हूं। 

पढ़ें, हमारे पास सबकुछ है, बस साथ जुड़ना होगा

मैं कहना चाहता हूं कि हम विकास की राह पर आगे बढ़ रहे हैं। आज उत्तराखंड में 22 लाख परिवार हैं जिनमें से 96 प्रतिशत परिवारों में गैस पहुंच गया है, 98 प्रतिशत गांवों में रोड पहुंच गई है। आज हर घर में शौचालय है, हर घर में बिजली पहुंच चुकी है। मैंने कई राज्यों का दौरा किया है, मैंने देखा कि और राज्यों की अपेक्षा हमारे राज्य में हर घर में बिजली है। 

उत्तराखंड शिक्षा में निरंतर आगे बढ़ रहा है। हमारे पास 2500 से ज्यादा इंटर मीडिएड कालेज हैं, 15000 से भी ज्यादा प्राइमरी स्कूल, 172 आईटीआई, 72 पॉलिटेक्निक, 30 विश्वविद्यालय और 502 डिग्री कालेज हैं किसी भी राज्य में इतने शिक्षण संस्थान नहीं हैं। मुख्यमंत्री जी ने ढाई साल के कार्यकाल में राज्य की तस्वीर और तकदीर बदलने का प्रयास किया है। 

Copyright @ 2018 Raibaar | All Rights Reserves